मोदी सरकार को राजन ने लिया आड़े हाथ, कहा- नोटबंदी व GST से देश का विकास प्रभावित हुआ

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन नोटबंदी और जीएसटी लागू करने के बारे में अपनी असहमति पहले भी जाहिर कर चुके हैं। हाल ही में उन्होंने एक बार फिर सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से देश का विकास प्रभावित हुआ है। बर्कले में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलीफॉर्निया के छात्रों को संबाेधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘2012 से 2016 के बीच भारत तेज रफ्तार से वृद्धि कर रहा था, इसके बाद नोटबंदी और जीएसटी लागू होने की दोहरी मार से देश की विकास दर कम हो गई।’

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने माल एवं सेवाकर (जीएसटी) की आलोचना करने वालों को जवाब देते हुए रविवार को कहा कि यह एक महत्वपूर्ण सुधार हुआ है।

जेटली ने रघुराम राजन पर साधा निशाना, जीएसटी को बताया ऐतिहासिक सुधार- Amarujala

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन पर निशाना साधे हुए वस्तु व सेवा कर (जीएसटी) को ऐतिहासिक कर सुधार करार दिया।

जीएसटी जरूरी सुधार, इससे सिर्फ दो महीने ही धीमी रही विकास दर : जेटली

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन पर निशाना साधा रघुराम राजन ने शुक्रवार को कहा था- जीएसटी और नोटबंदी से 2017 में धीमी रही विकास दर

GST पर राजन को जेटली का जवाब, 'ये ऐसा सुधार, जिसे लंबे समय तक रखा जाएगा याद'

रघुराम राजन ने कहा था कि नोटबंदी और जीएसटी इन दो कदमों से भारत की आर्थिक वृद्धि दर को झटका लगा है. हालांकि, अपनी बात कहते हुये जेटली ने राजन का नाम नहीं लिया.

रघुराम राजन ने मोदी सरकार को ‘आईना’ दिखाया है : कांग्रेस

रघुराम राजन ने (प्रधानमंत्री नरेन्द्र) मोदी निर्मित नोटबंदी की त्रासदी एवं ‘गब्बर सिंह टैक्स’(जीएसटी) को लेकर मोदी सरकार को‘सच्चाई का आईना’दिखाया है।'

Univarta: नयी दिल्ली, 11 नवम्बर (वार्ता) नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण गत वर्ष देश की आर्थिक विकास की रफ्तार कम होने के भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन के बयान का समर्थन करते हुए कांग्रेस ने रविवार को कहा कि श्री राजन ने मोदी सरकार को ‘आईना’ दिखाया है।

पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि भारत को लेबर फोर्स से जुड़ रहे नये लोगों के लिये हर महीने 10 लाख रोजगार के अवसर पैदा करने की जरूरत है. राजन ने बैकों से कहा है कि उन्हें अपने बैलेंस सीट से एनपीए को साफ करना होगा.

रघुराम राजन ने कहा- नोटबंदी, जीएसटी से डगमगाई भारत की अर्थव्यवस्था

पूर्व गवर्नर ने कहा- सात फीसदी की विकास दर देश की जरूरतों के लिए पर्याप्त नहीं एनपीए से निपटना जरूरी, जिससे बैलेंस शीट क्लियर हों और बैंक पटरी पर आ सकें

पूर्व RBI गवर्नर रघुराम राजन बोले, 'भारत के सामने अभी भी हैं 3 बड़ी दिक्कतें'

पूर्व गवर्नर ने कहा कि कच्चा तेल की कीमतें बढ़ने से घरेलू अर्थव्यवस्था के समक्ष परिस्थितियां थोड़ी मुश्किल होंगी.