बाबा केदारनाथ के कपाट शीत कालीन के लिए बंद

आज भैया दूज के दिन बाबा केदार के कपाट अगले छह माह शीतकाल के लिए आम श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिए गए हैं। तमाम रीति रिवाज और पूजा अर्चना के बाद बाबा केदार की चल उत्सव विग्रह डोली  उखीमठ के लिए रवाना हो चुकी है...

भगवान शिव के धाम के कपाट शीतकाल के लिये बंद-Navbharat Times

अन्य न्यूज़: केदारनाथ, नौ नवंबर (भाषा) उत्तराखंड में गढ़वाल के उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित विश्वप्रसिद्ध बाबा केदारनाथ धाम के कपाट शुक्रवार के शीतकाल के लिये बंद कर दिये गये। भगवान शिव के 11 वें ज्योतिर्लिंग श्री केदारनाथ मंदिर के कपाट विधिवत पूजा अर्चना के बाद सुबह 8:30 पर शीतकाल के लिए बंद कर दिये गये। अब अगले छह महीनों तक श्रद्धालु बाबा के दर्शन उनके शीतकालीन प्रवास स्थल उखीमठ में स्थित ओंकारेश्वर मंदिर में कर सकेंगे। कपाट बंद होने की प्रक्रिया सुबह चार बजे से केदारनाथ मंदिर के गर्भ गृह में भगवान की विशेष पूजा के साथ शुरू हुई। पूजा मंदिर के

शीतकाल: केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद

भगवान शिव के 11वें ज्योतिर्लिंग भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट आज शुक्रवार (भैया दूज) को शीतकाल के लिए बंद कर दिये गये. सुबह 5.30 बजे विधिवत पूजा अर्चना के बाद वैदिक मंत्रोच्चारण के बाद 8.15 पर मंदिर का कपाट बंद कर दिये गये.मंदिर के बंद होने के बाद केदारनाथ की पंचमुखी डोली अपने शीतकालीन प्रवास ओम्कारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए रवाना हो गई. रात्रि प्रवास के लिए प्रथम पड़ाव रामपुर पहुंचेगी.11 नवंबर को डोली अपने शीतकालीन पूजा गद्दीस्थल में विराजमान होगी.

केदारनाथ-यमुनोत्री धाम के कपाट 6 महीने के लिए हुए बंद

केदारनाथ और यमुनोत्री धाम के कपाट शुक्रवार को भैया दूज पर वैदिक मंत्रोचार और kedarnath dham door close For six month during winters

उत्तराखंड: शीतकाल के लिए बंद हुए केदारनाथ मंदिर के कपाट

भैय्या दूज के मौके पर केदारनाथ मंदिर के कपाट वैदिक मंत्रोच्चार के साथ शीतकाल के लिए बंद किए गए। Uttarakhand: Kedarnath Temple Closed For Winter Session

बंद हुए केदारनाथ के कपाट, यमुनोत्री के कपाट दोपहर में होंगे बंद... ये बना नया रिकार्ड

बंद हुए बाबा केदारनाथ के कपाट, पंचमुखी डोली ऊखीमठ पीठ के लिए रवाना

बाबा केदार के कपाट भाई दूज के दिन शीतकाल के लिए बंद हो गए हैं। शुक्रवार सुबह आठ बजकर तीस मिनट पर वैदिक मंत्रोच्चार के साथ केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद हुए।

केदारनाथ के कपट शीतकाल के लिए हुए बंद, पंचमुखी डोली ऊखीमठ के लिए रवाना– News18 हिंदी

सुबह 5:30 बजे से केदारनाथ धाम में पूजा अर्चना शुरू हो गई थी. कपाट बंद होने के बाद बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह डोली केदारनाथ धाम से अपने पंच गद्दीस्थल ऊखीमठ के लिए चल पड़ी.

शीतकाल के लिए बंद हुए बाबा केदार के कपाट, 6 महीने ऊखीमठ विराजेंगे भगवान शीतकाल के लिए बंद हुए बाबा केदार के कपाट, 6 महीने ऊखीमठ विराजेंगे भगवान

देहरादून: विश्व प्रसिद्ध केदारनाथ धाम के कपाट आज भैयादूज के पर्व पर सुबह साढ़े आठ बजे शीतकाल के लिए बंद हो गए. धाम में आज सुबह चार बजे से ही भगवान को भोग लगाने के साथ समाधि पूजा शुरू की गई. पूजा-अर्चना के बाद ठीक साढ़े आठ बजे धाम के मुख्य कपाट को बंद किया गया.

शीतकाल के लिए बंद हुए गंगोत्री मंदिर के कपाट, अब मुखबा में होंगे गंगा के दर्शन और पूजा-अर्चना- Amarujala

उत्तरकाशी। अन्नकूट के पावन पर्व पर बृहस्पतिवार दोपहर 12.30 बजे विधि-विधान के साथ गंगोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। मां गंगा की भोगमूर्ति सेना के पाइप बैंड और पारंपरिक