Chhath Puja 2018: भगवान सूर्य की उपासना का महापर्व है छठ पूजा, इन नामों से भी जानते हैं लोग - चार दिन तक चलने वाले महापर्व को छठ पूजा, छठी माई पूजा, डाला छठ, सूर्य षष्‍ठी पूजा और छठ पर्व के नामों से भी जाना जाता है.. Latest News & Updates in Hindi at India.com Hindi

Chhath Puja: छठ सूर्य से जुड़ा है। चार दिनों चलने वाली इस सूर्य पूजा से न केवल सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है बल्कि बेहतर स्वास्थ्य भी मिलता है।छठ पूजा की आस्था और स्वास्थ्य से कैसे जुड़ी है। आइए जानते हैं..

chhath puja 2018: इन चीजों के बिना अधूरी है छठ पूजा

11 नवंबर को नहाय-खाय के साथ चार दिनों के छठ महापर्व की शुरुआत हो चुकी है। यह पर्व उत्तर-पूर्वी भारत Chhath Puja 2018 these things are important in chhath puja

Chhath Puja 2018: खरना आज, सूर्यदेव को भोग लगाने के बाद शुरू होगा 36 घंटे का निर्जला उपवास

आज है खरना, इसके बाद 36 घंटे का व्रत आरंभ ,The second day of Chhath is known as Kharna. On this day fasting without water is observed from the sunrise to the sunset. The fast is broken just after sunset after making the food offering the Sun God.

ब्रह्मा की मानसपुत्री हैं षष्ठी देवी, इन्हीं का नाम देवसेना

ब्रह्मा की मानसपुत्री हैं षष्ठी देवी, इन्हीं का नाम देवसेनालोक आस्था का महापर्व छठ के संदर्भ में कई मान्यताएं हैं। इस व्रत के मूल में सूर्य पूजन है। लोग इसे प्रकृति पूजन भी...

chhath puja 2018: सरकारी ऐलान तो है लेकिन मदद नहीं-छठ समितियां

इस साल दिल्ली में जेनरेटर के इस्तेमाल पर पाबंदी है ऐसे में बिजली आपूर्ति में समितियों को काफी दिक्कत हो रही है

chhath puja 2018 : सूर्यदेव की उपासना का पर्व प्रारंभ

छठ पूजा मुख्य रूप से सूर्यदेव की उपासना का पर्व है। रविवार से इसकी शुरुआत हो गई। चार दिवसीय पर्व के अंतिम दो दिन डूबते और उगते सूर्य को अघ्र्य दिया जाएगा।

Chhath Puja 2018 how chhath mahaparv starts and why we celebrates its history and significance- Chhath Puja 2018: कैसे शुरू हुई छठ पूजा, क्यों मनाते हैं ये महापर्व, इसका इतिहास और महत्व जान रह जाएंगे दंग कैसे और क्यों शुरू हुई छठ पूजा? इसका इतिहास और महत्व जान दंग रह जाएंगे

Chhath Puja 2018: आस्था और विश्वास के महापर्व और चार दिनों तक चलने वाली छठ पूजा नहाय खाय के साथ 11 नवंबर से शुरू हो चुकी है. छठ पूजा को लेकर लोगों के मन में सवाल रहता है कि आखिर कब और कैसे इस महापर्व की शुरूआत हुई. छठ मिथिला क्षेत्र का मूल पर्व है. इस पर्व से जुड़ी एक मान्यता यह भी है कि यह कोई धार्मिक त्योहार नहीं है बल्कि यह एक प्राकृतिक त्योहार है और इसका सीधा संबंध फसलों से जुड़ा है.

Chhath Puja 2018: छठ पूजा सामग्री, सही विधि से करें छठी मैया को प्रसन्न

छठ पूजा सामग्री में नए वस्त्र साड़ी-कुर्ता पजामा बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। छठ में प्रसाद के रूप में बनने वाले ठेकुआ और चावल के लड्डू का सूर्यदेव को भोग लगाएं।

Chhath puja 2018: इन 7 चीजों के बिना पूर्ण नहीं मानी जाती छठ पूजा

भारतीय पंचांग के अनुसार कार्तिक मास में दीपावली यानी अमावस्‍या के 6 दिन बाद शुरू छठ का पर्व शुरू होता है। पूजा का आरंभ पहले दिन नहाय खाय के साथ होता है। छठी देवी को सूर्य देव की मानस बहन माना गया है, इसलिए इस मौके पर भगवान भास्‍कर की अराधना पूरी निष्‍ठा व परंपरा […]

आज से चार दिन तक चलने वाले छठ पर्व (Chhath Puja 2018) की शुरुआत हो चुकी है. आइए जानते हैं इस बार सूर्य को पहला अर्घ्य कब दिया जाएगा.