इसलिए वाजपेयी, आडवाणी और मोदी के चहेते बने रहे अनंत कुमार- Amarujala

22 जुलाई, 1959 को बेंगलुरु में एक मध्यम वर्गीय ब्राह्मण परिवार में जन्मे कुमार ने अपनी शुरुआती शिक्षा अपनी मां गिरिजा एन शास्त्री के मार्गदर्शन में पूरी की जो खुद भी एक ग्रेजुएट थीं।

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार (59) का आज तड़के बेंगलुरु के शंकरा अस्पताल में निधन हो गया। अनंत कुमार पिछले कुछ महीनों से फेफड़े के कैंसर से जूझ रहे थे। कुमार के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक प्रकट करते हुए कहा कि मैंने अपना एक महत्वपूर्ण साथी

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का निधन हो गया है. मोदी सरकार में संसदीय कार्यमंत्री रहे अनंत कुमार 59 साल के थे. वह पिछले कुछ महीनों से बीमार चल रहे थे.

अनंत कुमार : संघ के निष्ठावान स्वयंसेवक, राजनीतिक चतुराई के लिए विख्यात

संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार का निधन, तीन दिनों के लिए झुका रहेगा राष्‍ट्रीय घ्‍वज

मोदी सरकार में संसदीय कार्यमंत्री रहे अनंत कुमार 59 साल के थे। वह पिछले कुछ महीनों से बीमार चल रहे थे।

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का निधन, PM मोदी ने जताया शोक

मोदी ने ट्वीट में कहा, अनंत कुमार जी सक्षम प्रशासक थे, जिन्होंने कई मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली और भाजपा संगठन के लिये एक धरोहर थे।

LIVE: नहीं रहे केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार, कर्नाटक में तीन दिन का राजकीय शोक

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने सोमवार सुबह इस दुनिया को अलविदा कह दिया। बेंगलुरू में तड़के सुबह उनका देहांत हो गया। Union Minister Ananth Kumar Passed Away Live Updates

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का बेंगलुरु में निधन, तीन दिनों का राजकीय शोक घोषित, कैंसर से थे पीड़ित

द्रीय मंत्री अनंत कुमार का सोमवार तड़के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह पिछले कुछ महीनों से फेफड़े के कैंसर से जूझ रहे थे। शंकरा अस्पताल के निदेशक नागराज ने पीटीआई-भाषा को बताया कि कुमार (59) ने तड़के दो बजे आखिरी सांस ली।